72वां कान्स फिल्म फेस्टिवल 14 मई से, 9 साल में पहली बार कोई भारतीय फिल्म मुकाबले में नहीं


हॉलीवुड डेस्क. 1946 से शुरू हुए मशहूर कान्स फिल्म फेस्टिवल को 72साल पूरे हो गए हैं। दुनिया की श्रेष्ठ फिल्मों और सितारों के इस जमावड़े में बॉलीवुड एक्ट्रेसके साथ फिल्मों की दावेदारी हर साल बढ़ती रही है। लेकिन 9 साल में यह पहला मौका है जब कोई भी भारतीय फिल्म कान्स फेस्टिवल में किसी भी केटेगरी केमुकाबले के लिएचुनी गई हो।

  1. इंडियन पैवेलियन के अलावा इस बार भी बॉलीवुड एक्ट्रेसेसफैशन ब्रांड्स का प्रमोशन करने कान्स पहुंचेंगी। जिनमें ऐश्वर्या राय, दीपिका पादुकोण, सोनम कपूर, कंगना रनोट, हुमा कुरैशी शामिल होंगी। वहीं हिना खान रेड कार्पेट पर डेब्यू करने वाली हैं। दीपिका पादुकोण 16 मई को, ऐश्वर्या राय के 19 मई को पहुंचने की संभावना है। सोनम कपूर 20 और 21 मई को जाएंगी। वहीं हुमा कुरैशी भी 19-20 मई को कांस में शिरकत करेंगी।

  2. पाम डी ओर, अन सर्टेन रिगार्ड, कैमरा डी ओर, शॉर्ट फिल्म जैसी केटेगरीज में कोई भी भारतीय फिल्म नहीं पहुंच सकी है। नौसाल में यह पहला मौका होगा जब रेड कार्पेट पर बॉलीवुड सेलेब्स तो होंगे, लेकिन कॉम्पीटिशनमें भारतीय फिल्में नहीं होंगी। हालांकि, सत्यजीत रे फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट कोलकाता के तीन पूर्व छात्रोंकी शॉर्ट फिल्म, इंडियन अमेरिकन शेफ विकास खन्ना की फिल्म द लास्ट कलर भारत की मौजूदगी बनाए रखेंगे।

    नागपुरी फिल्म फुलमनिया और लोहरदगा की स्क्रीनिंग 15 मई को कान फिल्म फेस्टिवल में होगी। मेकर लाल विजय शाहदेव 13 मई को फ्रांस पहुंचेंगे।

    इससे पहले ये फिल्में पहुंचीं

    • 2010 में उड़ान अन सर्टेन (रिगार्ड कैटेगरी में)
    • 2011 में द ग्रेटेस्ट लव स्टोरी एवर टोल्ड
    • 2012 में मिस लवली अन सर्टेन (रिगार्ड कैटेगरी में)
    • 2013 में मानसून शूटआउट (आउट ऑफ कॉम्पीटिशन में)
    • 2013 में बॉम्बे टॉकीज (स्पेशल स्क्रीनिंग में)
    • 2014 में तितली अन सर्टेन (रिगार्ड कैटेगरी में)
    • 2015 में मसान और चौथी कूट अन सर्टेन (रिगार्ड कैटेगरी में)
    • 2016 में गूढ़ (सिने फंडेशन में)
    • 2016 में द सिनेमा ट्रेवलर्स (कान्स क्लासिक में)
    • 2017 में आफ्टरनून क्लाउड्स (सिने फंडेशन में)
    • 2018 में मंटो अन सर्टेन (रिगार्ड कैटेगरी में)
  3. कान्स फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत 14 मई को है। फेस्टिवल की ओपनिंग फिल्म अमेरिकन जॉम्बी कॉमेडी द डेड डोन्ट डाई है, जिसका डायरेक्शन जिम जार्मुश ने किया है। जबकि आखिरी फिल्म जिसका प्रीमियर 25 मई को होगा वह फ्रैंच कॉमेडी फिल्म द स्पेशल होगी। जिसका डायरेक्शन ओलिवियर नकैशे और एरिक टोलेडानो ने किया है। इस बार फेस्टिवल में 21 फिल्मों के बीच प्रतिस्पर्धा होगी। 18 फिल्में अन सर्टेन रिगार्ड के लिए और 14 शॉर्ट फिल्मों के बीच मुकाबला होगा।

  4. कान्स फिल्म फेस्टिवल में इस साल दिए जा रहे ऑफिशियल अवॉर्ड्स भी खास है। मानद पाम डी ओर अवॉर्ड फ्रैंच एक्टर एलेन डेलन को दिया जा रहा है। स्वतंत्र अवॉर्ड केटेगरी का डायरेक्टर्स फोर्टनाइट अवॉर्ड कैरेस डी ओर अमेरिकन फिल्म मेकर जॉन कार्पेन्टर को दिया जाएगा। वहीं पियरे एन्जेनेक्स एक्सीलेंस इन सिनेमेटोग्राफी के लिए ब्रूनो डेलबोनल को चुना गया है।

  5. सेलेब्रिटी शेफ से फिल्म मेकर बने विकास खन्ना भी कान्स फिल्म फेस्टिवल में पहले ही दिन रेड कार्पेट पर नजर आएंगे। विकास 2015 से लगातार कान्स फेस्टिवल में शिरकत कर रहे हैं। वे ऑस्कर विजेता जूलियाने मूर के साथ ‘लाइफ थ्रू अ डिफरेंट लेंस’ विषय पर मास्टरक्लास लेंगे। कान्स में विकास की डायरेक्टर के तौर पर डेब्यू फिल्म द लास्ट कलर की स्क्रीनिंग है। जो16 मई को मर्चे डू फिल्म सेक्शन में होगी।

  6. रेड कार्पेट थ्योरी की शुरुआत 1922 में सिड ग्रौमेन ने की थी। मूवी प्रीमियर के लिए शुरू हुआ रेड कार्पेट बिछाने का सिलसिला आज तक जारी है। माना जाता है कि पहले कलर कॉम्बिनेशन जैसी चीज प्रचलित नहीं थी, केवल लाल रंग ही आसानी से मिलता था। इसलिए कार्पेट को लाल रंग दिया गया।
    एक दूसरी घटना के अनुसार 458 B.C. में हुए टोजन वॉर के बाद जब सैनिक घर वापस लौटे, तब परिजन ने रेड कार्पेट बिछाया। इसी कार्पेट पर चलकर आए सैनिकों का सम्मान किया गया। इसलिए कार्पेट में लाल रंग का महत्व ज्यादा है।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      first time in the last 9 years none Indian film compete in Cannes Film Festival 2019


      first time in the last 9 years none Indian film compete in Cannes Film Festival 2019

We would like to update you with latest news.