भारत को पाकिस्तान के प्रति अपना व्यवहार बदलना होगाः चिदंबरम

नई दिल्ली। वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम की मानें तो भारत को पाकिस्तान के प्रति अपने रवैये में बदलाव करना होगा। उन्होंने रविवार को राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर आयोजित एक परिचर्चा के दौरान यह राय जाहिर की। पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि अगर भारत चाहता है कि पाकिस्तान के रवैये में बदलाव आए, तो उसे भी अपने बर्ताव में परिवर्तन का परीक्षण करना चाहिए।

वो 10 राजनेता जो आजतक कोई भी लोकसभा चुनाव नहीं हारे

इस परिचर्चा का विषय ‘बियांड पॉलिटिक्स: डिबेटिंग ए न्यू सिक्योरिटी मेनिफेस्टो’ था। इस पर बोलते हुए चिदंबरम ने कहा कि अगर दोनों राष्ट्र एक दूसरे को बुरा बताते रहेंगे, तो हालात में कभी सुधार नहीं होगा।

पूर्व वित्त मंत्री का कहना थाा, “हमें पाकिस्तान को उसके बर्ताव में बदलाव लाने को प्रेरित करना होगा जिसका मतलब यह है कि हमें पाकिस्तान के प्रति अपने व्यवहार में परिवर्तन लाना होगा।”

मोदी-इमरान

चिदंबरम ने कहा कि पिछले प्रधानमंत्रियों ने कहा है कि हम अपने मित्र बदल सकते हैं, लेकिन पड़ोसी नहीं, और यह हकीकत है।

चिदंबरम की मानें तो अगर पाकिस्तान भारत को बुरा कहता है तो भारत भी पाकिस्तान को बदले में बुरा ही कहता है। दोनों देशों की यही रिवायत है। हम सीमा विवादों और घुसपैठ को कभी खत्म नहीं कर सकते हैं।

‘मुझे पैसे से नहीं खरीद सकते, इसलिए रची ये साजिश,’ चीफ जस्टिस गोगोई ने किया यौन शोषण

इस परिचर्चा के दौरान मोदी सरकार पर सीधा निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जो बताया जा रहा है जमीनी हकीकत उससे अलग है।

चिदंबरम का कहना है, “हम ‘मजबूत नेता’, मजबूत सरकार और ताकतवर नीति जैसे मुहावरों से मंत्रमुग्ध हैं, लेकिन इसका असली परीक्षण जमीनी हकीकत से होता है।”

उन्होंने कहा, “हमने 2018 में पिछले 15 साल में ज्यादा घुसपैठ देखी। 2018 में घुसपैठिए पहले से ज्यादा सफल रहे और नागरिक व सेना ज्यादा हताहत हुए। इसलिए आप कैसे दावा करते हैं कि ये नीतियां सफल रहीं।”

Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

We would like to update you with latest news.