स्टीव वॉ ने वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप की तारीफ की, कहा- इससे टेस्ट क्रिकेट का रोमांच बढ़ेगा


खेल डेस्क. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने ICC वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप को एक बेहतरीन अवधारणा बताते हुए उम्मीद जताई है, कि इससे क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में रोमांच आ जाएगा। एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, ‘मुझे लगता है कि टेस्ट मैच क्रिकेट के लिए ये बेहतरीन होगा।’ टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत 1 अगस्त से एशेज सीरीज में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जाने वाले पहले टेस्ट मैच के साथ हो जाएगी। इस टूर्नामेंट में टेस्ट खेलने वाली दुनिया की 9 टीमें ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्ट इंडीज हिस्सा ले रही है।

  • स्टीव वॉ दुनिया केसबसे सफल टेस्ट कप्तानों में से एक हैं, इस फॉर्मेट में उनकी जीत का प्रतिशत 71.93 है, जो कि 10 से ज्यादा टेस्ट खेलने वाले अन्य देशों के कप्तानों के मुकाबले दुनिया में सबसे ज्यादा है। लेकिन इसके बाद भी वॉ को लगता है कि अगर उस दौर में टेस्ट क्रिकेट चैम्पियनशिप जैसा टूर्नामेंट होता, तो उनकी उपलब्धियों को दुनिया ज्यादा अच्छे से पहचानती।
  • वॉ ने कहा, ‘मैंने 18 साल तक खेला और कई लोग मुझे कहते थे कि हमारी टीम टेस्ट क्रिकेट के मामले में दुनिया में नंबर वन थी। लेकिन मुझे लगता है कि जब तक आप ट्रॉफी ना उठा लो या फाइनल तक ना पहुंच जाओ, तब तक आपको इस बात का यकीन नहीं होता। मुझे लगता है कि टेस्ट क्रिकेट को सचमुच इसकी जरूरत है।’
  • आगे उन्होंने कहा, ‘आपके पास टी20 वर्ल्ड कप है, वनडे वर्ल्ड कप है, ऐसे में आपको इस बात का यकीन करने के लिए भी कुछ ना कुछ चाहिए कि आप टेस्ट में दुनिया की बेस्ट टीम हैं।’
  • वॉ का मानना है कि टेस्ट क्रिकेट ही इस खेल का वो फॉर्मेट है, जहां एक खिलाड़ी अपनी पूरी क्षमताओं को सच्चाई के साथ परख सकता है। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि खिलाड़ी अब भी सबसे अच्छा टेस्ट खिलाड़ी बनना चाहते हैं, जितना वे बन सकते हैं। इसलिए उसे मापने का ये एक शानदार तरीका है।’

ऐसा है पूरा फॉर्मेट

  • टेस्ट चैम्पियनशिप के दौरान हर टीम को 6-6 सीरीज खेलेगी। जिसमें से तीन सीरीज घरेलू मैदान पर और तीन सीरीज विदेश में खेली जाएंगी। एक सीरीज में कम से कम दो और ज्यादा से ज्यादा 5 टेस्ट खेले जा सकते हैं।
  • हर सीरीज के लिए 120 अंक रहेंगे, जिन्हें सीरीज में खेले जाने वाले मैचों की संख्या के हिसाब से बांट दिया जाएगा। जैसे दो मैचों की सीरीज होने पर हर मैच जीतने पर 60 अंक मिलेंगे, जबकि तीन मैचों की सीरीज होने पर हर एक जीत के बदले 40 अंक मिलेंगे।
  • मैच ड्रॉ होने पर दोनों टीमों के बीच उस मैच के कुल अंकों के एक तिहाई अंक बराबरी से बांटे जाएंगे। यानी तीन मैचों की सीरीज का एक मैच ड्रॉ होने पर दोनों टीमों को 13.3-13.3 अंक (40/3) मिलेंगे। वहीं टाई होने की स्थिति में दोनों टीमों के बीच अंक समान रूप से बांट दिए जाएंगे।
  • ये चैम्पियनशिप अगले दो साल तक चलेगी और इस दौरान कुल 27 टेस्ट सीरीज खेली जाएंगी। टूर्नामेंट में टॉप दो स्थानों पर रहने वाली टीमों के बीच जून 2021 में इंग्लैंड में फाइनल मुकाबला होगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ (फाइल फोटो)।